Download Our App

Follow us

Home » दिल्ली एनसीआर » दिल्ली में आज विपक्ष की ‘लोकतंत्र बचाओ’ रैली, 27 पार्टियां होंगी शामिल

दिल्ली में आज विपक्ष की ‘लोकतंत्र बचाओ’ रैली, 27 पार्टियां होंगी शामिल

दिल्ली के रामलीला मैदान में आज I.N.D.I.A ब्लॉक की रैली होनी है। सुबह 11 बजे विपक्षी गुट की 27 पार्टियां रैली में शामिल होंगी। कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने शनिवार को कहा कि पार्टी प्रमुख मल्लिकार्जुन खड़गे और राहुल गांधी रैली को संबोधित करेंगे। सोनिया भी रैली में शामिल हो सकती हैं।

इस रैली में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की पत्नी सुनीता केजरीवाल भी मौजूद रहेंगीं। वहीं, झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की पत्नी कल्पना सोरेन इस रैली में शामिल होने के लिए कल दोपहर दिल्ली पहुंचीं। उन्होंने रात में सुनीता केजरीवाल से मुलाकात की। दोनों ने कहा कि हम केंद्र के खिलाफ लड़ाई लड़ेंगे।

उद्धव ठाकरे बोले- भाजपा को परिवार का मतलब नहीं पता

I.N.D.I.A गुट की रैली से पहले भाजपा प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि विपक्ष की यह रैली लोकतंत्र बचाओ नहीं, परिवार बचाओ और भ्रष्टाचार छुपाओ रैली है। इसे लेकर उद्धव ठाकरे ने कहा कि BJP को परिवार का मतलब नहीं पता। सिर्फ मेरा परिवार कह देना काफी नहीं है, अपने परिवार की जिम्मेदारी लेनी पड़ती है। आपके परिवार में सिर्फ कुर्सी और आप हैं। BJP के पास कोई मुद्दा नहीं बचा है, उनका नकाब उतर गया है। जब से इलेक्टोरल बॉन्ड का डेटा सामने आया है, तब से BJP देश की सबसे भ्रष्ट पार्टी बनकर सामने आई है। भाजपा यानी भ्रष्ट जनता पार्टी। जितने भ्रष्ट लोग हैं, वे भाजपा में जा रहे हैं।

सपा, DMK, पीडीपी, आरजेडी समेत बड़ी पार्टियों के नेता शामिल होंगे

इस रैली में झारखंड के मुख्यमंत्री चंपई सोरेन, NCP (SP) चीफ शरद पवार, RJD नेता तेजस्वी यादव, CPI (M) महासचिव सीताराम येचुरी, CPI महासचिव डी राजा, नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता फारूक अब्दुल्ला, PDP प्रमुख महबूबा मुफ्ती, समाजवादी पार्टी सुप्रीमो अखिलेश यादव, DMK के तिरुचि शिवा, TMC के डेरेक ओ ब्रायन समेत कई लोग हिस्सा लेंगे।

रैली में ये मुद्दे उठाए जाएंगे

जयराम रमेश ने कहा कि रैली में विपक्षी नेता बढ़ती कीमतें, 45 साल में सबसे ऊंची बेरोजगारी दर, आर्थिक असमानता, सामाजिक ध्रुवीकरण और किसानों के खिलाफ अन्याय के मुद्दे उठाएंगे।

उन्होंने कहा कि एक और प्रमुख मुद्दा जो उठाया जाएगा, वह केंद्रीय एजेंसियों के दुरुपयोग के माध्यम से विपक्ष को निशाना बनाना है। रमेश ने आरोप लगाया कि विपक्षी दलों को निशाना बनाने के चलते दो मुख्यमंत्रियों और कई मंत्रियों को गिरफ्तार किया गया है।

रमेश ने बताया कि चुनावी बॉन्ड के माध्यम से जबरन वसूली और कांग्रेस को टैक्स आतंकवाद से निशाना बनाए जाने के मुद्दे भी उठाए जाएंगे।

 

 

 

 

Shree Om Singh
Author: Shree Om Singh

Leave a Comment

RELATED LATEST NEWS