Download Our App

Follow us

Home » भारत » अमरनाथ यात्रा: आस्था की शक्ति के आगे पिघलता शिवलिंग भी हार

अमरनाथ यात्रा: आस्था की शक्ति के आगे पिघलता शिवलिंग भी हार


श्रद्धालुओं की अविचल आस्था
शिवलिंग के पूरी तरह पिघल जाने के बावजूद, अमरनाथ यात्रा में श्रद्धालुओं की आस्था और श्रद्धा में कोई कमी नहीं आई है। बल्कि, आस्था के सामने हर चीज हारती हुई नजर आ रही है। बालटाल और पहलगाम से प्रतिदिन 15,000 श्रद्धालुओं को गुफा पर जाने की अनुमति है, परंतु वास्तविकता में 20,000 से अधिक यात्री हर रोज बाबा के दर्शन के लिए पहुंच रहे हैं।

यात्रा की शुरुआत और आंकड़े
29 जून को इस वर्ष की 52 दिनों की पवित्र अमरनाथ यात्रा शुरू हुई थी। अब तक, यात्रा के 11 दिनों में 2.50 लाख से अधिक श्रद्धालु पवित्र गुफा के दर्शन कर चुके हैं, जो पिछले सालों के मुकाबले अब तक की सबसे बड़ी संख्या है। इंडिया टीवी से बात करते हुए भक्तों ने बताया कि भले ही शिवलिंग वक्त से पहले पिघल गया हो, लेकिन बाबा बर्फानी के गुफा के दर्शन करने से दिल को सुकून मिल रहा है। इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ रहा है कि शिवलिंग पिघल गया है, क्योंकि आस्था और श्रद्धा भक्तों को दूर-दूर से यहां खींच लाती हैं।

प्रशासनिक इंतजाम और श्रद्धालुओं की प्रतिक्रिया
प्रत्येक श्रद्धालु इस इंतजार में है कि कब बाबा अमरनाथ की गुफा के दर्शन हों। जो श्रद्धालु दर्शन कर वापस लौट आए हैं, वे अमरनाथ श्राइन बोर्ड और प्रशासन द्वारा किए गए इंतजामों से बेहद खुश नजर आ रहे हैं। इन श्रद्धालुओं का मानना है कि गुफा पर प्रतिदिन बढ़ रही श्रद्धालुओं की भीड़ इस बार अमरनाथ यात्रा में एक नया ऐतिहासिक रिकॉर्ड बनाएगी।

यात्रा के पहले 11 दिनों के आंकड़े
इस साल यात्रा के पहले 5 दिनों में ही एक लाख से अधिक श्रद्धालु गुफा में पहुंचे चुके हैं, जबकि 11 दिनों में यह संख्या करीब 2.50 लाख तक पहुंच गई है। यह पिछले कई सालों के मुकाबले में अब तक की सबसे बड़ी संख्या है। 52 दिनों की अमरनाथ यात्रा 19 अगस्त को संपन्न हो रही है। अगले 40 दिनों तक श्रद्धालुओं की भीड़ इसी तरह बनी रही तो इस वर्ष अमरनाथ यात्रा में एक नया रिकॉर्ड बन सकता है।

RELATED LATEST NEWS

Top Headlines

कांवड़ नेमप्लेट मामले पर SC ने लगाई अंतरिम रोक, यूपी, उत्तराखंड और मध्य प्रदेश सरकारों को नोटिस जारी

नई दिल्ली: कांवड़ नेमप्लेट मामले पर आज (सोमवार) सुप्रीम कोर्ट का अंतरिम फैसला आया है, जिसमें सुप्रीम कोर्ट ने कांवड़ियां

Live Cricket