Download Our App

Follow us

Home » अपराध » पिता की हत्या के आरोप में असिस्टेंट प्रोफेसर गिरफ्तार, वित्तीय विवाद बना कारण

पिता की हत्या के आरोप में असिस्टेंट प्रोफेसर गिरफ्तार, वित्तीय विवाद बना कारण

पत्नी से विवाद के बाद माता-पिता के साथ रह रहा था आरोपी, कर्ज से था परेशान

भुवनेश्वर में स्थित एक निजी लॉ कॉलेज के असिस्टेंट प्रोफेसर ने अपने पिता की हत्या कर दी है। इस घटना के बाद पुलिस ने आरोपी अनिरुद्ध चौधरी को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस उपायुक्त प्रतीक सिंह ने बताया कि नाल्को के सेवानिवृत्त अधिकारी सुनील चौधरी पर चाकू से सीने और पेट पर कई बार वार किए गए, जिसके कारण उनकी मौत हो गई।

अनिरुद्ध चौधरी, जो कि 38 वर्ष का है, अपनी पत्नी से विवाद के बाद मंचेश्वर थाना अंतर्गत कलारहंगा क्षेत्र के एक अपार्टमेंट में अपने माता-पिता के साथ रह रहा था। यह दुखद घटना सुबह उसकी मां सुनीता के सामने हुई। पुलिस को सूचना मिलते ही एक पीसीआर वैन सुबह करीब साढ़े चार बजे घटनास्थल पर पहुंची और गंभीर रूप से घायल सुनील चौधरी को कैपिटल अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

पुलिस की प्रारंभिक जांच में यह सामने आया है कि घटना का कारण वित्तीय विवाद था। अनिरुद्ध चौधरी कथित तौर पर भारी कर्ज से परेशान था और उसने अपने पिता से वित्तीय सहायता मांगी थी। जब सुनील चौधरी ने पैसे देने से इनकार कर दिया तो अनिरुद्ध ने गुस्से में आकर उन पर हमला कर दिया। पुलिस ने भारतीय न्याय संहिता (बीएनएस) के संबंधित प्रावधानों के तहत मामला दर्ज कर लिया है।

फॉरेंसिक विशेषज्ञों ने अपराध स्थल से साक्ष्य एकत्र किए हैं, जिनमें हत्या में इस्तेमाल किया गया हथियार और घटना के समय आरोपी तथा उसके पिता द्वारा पहने गए कपड़े शामिल हैं। पुलिस अधिकारियों ने कहा कि शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है। उन्होंने कहा कि घटना के बारे में अधिक जानकारी जुटाने के लिए अनिरुद्ध की मां सुनीता से भी पूछताछ की जाएगी।

इस घटना ने पूरे क्षेत्र में सनसनी फैला दी है और लोगों में गम और गुस्से का माहौल है। पुलिस मामले की गहराई से जांच कर रही है ताकि घटना के सभी पहलुओं को स्पष्ट किया जा सके। अनिरुद्ध चौधरी का कर्ज और वित्तीय तनाव इस हत्या का प्रमुख कारण माना जा रहा है। पुलिस ने कहा है कि वे घटना की पृष्ठभूमि और आरोपी के मानसिक स्थिति की भी जांच करेंगे ताकि घटना के पीछे के सभी कारणों को समझा जा सके।

RELATED LATEST NEWS

Top Headlines

गैर-कृषि क्षेत्र में भारतीय अर्थव्यवस्था को सालाना 78 लाख नौकरियां पैदा करने की जरूरत- आर्थिक सर्वेक्षण

नई दिल्ली: भारत का कार्यबल (workforce) लगभग 56.5 करोड़ है, जिसमें 45 प्रतिशत से अधिक कृषि में, 11.4 प्रतिशत विनिर्माण

Live Cricket