Download Our App

Follow us

Home » दुर्घटना » सीवान के दरौंदा में गंडक नहर पर पुल टूटा

सीवान के दरौंदा में गंडक नहर पर पुल टूटा

अररिया में भी 12 करोड़ की लागत से बना पुल गिरने से ठेकेदार और विभागीय लापरवाही पर सवाल


बिहार के सीवान जिले के दरौंदा प्रखंड के रामगढा में गंडक नहर पर बना एक छोटा पुल टूट जाने से स्थानीय लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। यह पुल पटेढ़ी बाजार और दरौंदा प्रखंड को जोड़ता था, जिसके टूटने से आवागमन बुरी तरह बाधित हो गया है। पुल का एकमात्र पिलर बह जाने के कारण यह हादसा हुआ, जिससे पुल पूरी तरह ढह गया।

इससे पहले बिहार के अररिया जिले में भी एक पुल गिरने की घटना सामने आई थी। अररिया जिले के सिकटी प्रखंड क्षेत्र में पड़किया घाट पर बकरा नदी पर बना पुल भरभराकर नदी में समा गया। इस पुल के निर्माण में करीब 12 करोड़ रुपये की लागत आई थी। यह पुल लोकार्पण से पहले ही ढह गया, जिससे ठेकेदार और विभागीय लापरवाही की पोल खुल गई। घटना का वीडियो भी वायरल हुआ था, जिसमें यह सुना जा सकता है कि पुल बने हुए अभी एक साल भी नहीं हुआ था।

पुल के गिरने के बाद स्थानीय लोगों ने ठेकेदार और विभागीय अधिकारियों की लापरवाही को जिम्मेदार ठहराया। लोगों का कहना था कि निर्माण कार्य में अनियमितता और घटिया सामग्री के उपयोग के कारण पुल इतनी जल्दी ढह गया। पड़किया पुल के तीन पिलर बहकर नदी में समा गए थे, जिससे पुल टूट गया। यह घटना स्थानीय विधायक विजय कुमार मंडल और सांसद प्रदीप कुमार सिंह की पैरवी पर बने पुल की गुणवत्ता पर गंभीर सवाल खड़े करती है।

गौरतलब है कि पुल के निर्माण के लिए सरकार से पैरवी की गई थी और बाढ़ के कारण नदी का किनारा दूर हो जाने के बाद 12 करोड़ की लागत से इस पुल का निर्माण शुरू हुआ था। हालांकि, विभागीय लापरवाही और संवेदक की अनियमितताओं के चलते पुल का निर्माण सही ढंग से नहीं हो पाया, जिसके कारण यह हादसा हुआ। पुल के गिरने से क्षेत्रीय लोगों को भारी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है, और आवागमन पूरी तरह से बाधित हो गया है।

सीवान और अररिया की इन घटनाओं ने बिहार में पुल निर्माण की गुणवत्ता और प्रशासनिक निगरानी पर गंभीर सवाल खड़े कर दिए हैं। विभागीय लापरवाही और घटिया निर्माण सामग्री के उपयोग के कारण आम जनता को खामियाजा भुगतना पड़ता है। इन घटनाओं के बाद सरकार और प्रशासन को ठेकेदारों और संबंधित विभागों की जवाबदेही सुनिश्चित करनी होगी ताकि भविष्य में इस तरह की घटनाओं से बचा जा सके।

RELATED LATEST NEWS