Download Our App

Follow us

Home » प्राकृतिक आपदा » हिमाचल में भारी बारिश के कारण जनजीवन हुआ अस्त-व्यस्त, 115 सड़कें बंद, 212 ट्रांसफॉर्मर हुए ठप

हिमाचल में भारी बारिश के कारण जनजीवन हुआ अस्त-व्यस्त, 115 सड़कें बंद, 212 ट्रांसफॉर्मर हुए ठप

हिमाचल प्रदेश के कई हिस्सों में भारी बारिश के कारण जलभराव और भूस्खलन जैसी स्थिति पैदा हो गई है। इसके कारण प्रदेश में 115 सड़कें वाहनों के आवागमन के लिए बंद कर दी गई हैं।

शिमला मौसम कार्यालय ने गुरुवार को ऑरेंज अलर्ट जारी किया, जिसमें शुक्रवार तक अलग-अलग स्थानों पर आंधी और बिजली गिरने के साथ भारी बारिश की चेतावनी दी गई है।

राज्य आपातकालीन परिचालन केंद्र के अनुसार, मंडी में 107, चंबा में चार, सोलन में तीन और कांगड़ा जिले में एक सहित 115 सड़कें बारिश के बाद वाहन यातायात के लिए बंद हैं और 212 ट्रांसफॉर्मर बाधित हैं।

रास्तों के बीच दरारें

इसी बीच, चंडीगढ़-मनाली फोर-लेन सड़क के मंडी से पंडोह के बीच एक हिस्से में दरारें आ गई हैं और यह धंसना शुरू हो गया है, जिसके कारण अधिकारियों को बुधवार से केवल एक तरफा यातायात की अनुमति देने के लिए मजबूर होना पड़ा।

स्थानीय लोगों का कहना है कि लाखों रुपअ खर्च कर रिटेनिंग वॉल का निर्माण कराया गया था, लेकिन वह धंसने लगी है और करीब दो फीट तक नीचे चली गयी है, जिससे निर्माण की गुणवत्ता पर सवाल उठ रहे हैं।

छह और सात जुलाई को भारी बारिश

प्रोजेक्ट मैनेजर राज शेखर ने कहा कि घटनास्थल पर टारिंग का काम युद्ध स्तर पर चल रहा है। वहीं, मौसम विभाग ने शनिवार और रविवार (6 और 7 जुलाई) को भारी बारिश का येलो अलर्ट जारी किया है।

इन दिनों तेज हवाएं और बारिश के कारण वृक्षारोपण, बागवानी और खड़ी फसलों को नुकसान, कमजोर संरचनाओं को आंशिक नुकसान, कच्चे घरों और झोपड़ियों को मामूली नुकसान होने की आशंका जताई है।

राज्य की राजधानी शिमला में कई पेड़ उखड़ गए, जहां बुधवार शाम से 84 मिमी बारिश हुई है और नालों का मलबा सड़कों पर बिखरा हुआ है।

सुंदरनगर क्षेत्र में भारी बारिश से कई सड़कें बंद

मंडी जिले के सुंदरनगर में देर रात से हो रही बारिश के कारण कुछ सड़क मार्ग पूरी तरह से बंद हो गए हैं। इसे लेकर उपमंडल अधिकारी ने इन सड़क मार्ग से सफर नहीं करने की अपील की है। उपमंडल अधिकारी नागरिक सुंदरनगर गिरीश समरा ने कहा कि सलापड़-सेराकोठी मार्ग, पंडार-तातापानी मार्ग, मलोह-कटेरु मार्ग, खुराहाल-कंदार मार्ग, कटेरू-सलापड़-पोड़ाकोठी मार्ग, करंगल-किंदर मार्ग, सलापड़-तातापानी मार्ग पूरी तरह से बंद हो गया है। उपमंडल अधिकारी ने कहा कि भारी बरसात से मौसम में पहाड़ी क्षेत्रों में सफर करने से परहेज करें और किसी भी आपातकालीन स्थिति में जिला प्रशासन सहित उपमंडल प्रशासन के दिए गए नंबर 01907-266001 पर संपर्क करें। वहीं, सरकाघाट-मसेरन सड़क मसेरन गलू के पास भूस्खलन के कारण बाधित है।

इन जिलों में अचानक बाढ़ का खतरा

आईएमडी हाइड्रोमेट डिवीजन नई दिल्ली की ओर से हिमाचल के लिए राष्ट्रीय अचानक बाढ़ मार्गदर्शन बुलेटिन जारी किया गया है। इसके तहत अगले 24 घंटों के दौरान हिमाचल प्रदेश के मंडी, सिरमौर और शिमला जिलों के कुछ जलग्रहण क्षेत्रों और पड़ोस में कम से मध्यम स्तर की बाढ़ का खतरा है। एनएच-3 बनोग के पास धर्मपुर से कोटली की तरफ पत्थर गिरने से सड़क मार्ग बंद हो गया।

 

यह भी पढ़ें-  हेमंत सोरेन 7 जुलाई को लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ, मोरहाबादी मैदान में होगा भव्य समारोह

 

RELATED LATEST NEWS