Download Our App

Follow us

Home » खेल » पहला सुपर ओवर फेंकने वाले कामरान खान का आईपीएल से भावुक संन्यास

पहला सुपर ओवर फेंकने वाले कामरान खान का आईपीएल से भावुक संन्यास

पहला सुपर ओवर फेंकने वाले कामरान खान का आईपीएल से भावुक संन्यास 

साल 2008 में आईपीएल की शुरुआत हुई थी, जिसने क्रिकेट प्रेमियों को एक नया जुनून और खिलाड़ियों को एक अद्भुत मंच प्रदान किया। इस लीग के पहले सीजन में ही शेन वॉर्न की कप्तानी में राजस्थान रॉयल्स ने खिताब जीतकर इतिहास रच दिया था। आईपीएल ने कई युवा खिलाड़ियों को अपनी पहचान बनाने का अवसर दिया है, और ऐसा ही कुछ हमने 2009 में भी देखा था। शेन वॉर्न की कप्तानी में एक युवा भारतीय तेज गेंदबाज ने अपने शानदार प्रदर्शन से सभी का ध्यान अपनी ओर खींचा था। उस खिलाड़ी ने हाल ही में संन्यास की घोषणा की है। इस खिलाड़ी ने आईपीएल के इतिहास का पहला सुपर ओवर फेंककर अपनी छाप छोड़ी थी। यह खिलाड़ी और कोई नहीं, बल्कि कामरान खान हैं।

कामरान खान: तेज गेंदबाजी का उभरता सितारा

कामरान खान ने अपनी तेज गेंदबाजी और सटीक यॉर्कर से सभी को प्रभावित किया था। 2009 के आईपीएल सीजन में उन्होंने अपने प्रदर्शन से सबको चौंका दिया था। उनकी स्पीड और सटीकता को देखते हुए शेन वॉर्न ने उन्हें ‘टॉरनेडो’ का नाम दिया था, जो तूफान का प्रतीक है। इस खिलाड़ी ने अपने प्रदर्शन से यह साबित कर दिया था कि वह भारतीय क्रिकेट का भविष्य हो सकते हैं।

आईपीएल 2009: कामरान का सुनहरा पल

कामरान खान का आईपीएल करियर 2009 में राजस्थान रॉयल्स के लिए खेलते हुए चमका। इस सीजन में उन्होंने कुल 9 मैच खेले और 9 विकेट अपने नाम किए। उनका सबसे यादगार प्रदर्शन कोलकाता नाइटराइडर्स के खिलाफ मैच में था, जब उन्होंने आईपीएल के इतिहास का पहला सुपर ओवर फेंका और अपनी टीम को जीत दिलाई। इस ऐतिहासिक पल ने उन्हें रातोंरात सुर्खियों में ला दिया था।

कठिनाइयों का सामना

कामरान खान का करियर हालांकि उतार-चढ़ाव से भरा रहा। अपनी प्रतिभा के बावजूद, वह अपनी लय को लंबे समय तक बरकरार नहीं रख सके। उन्हें चकिंग के आरोपों का सामना करना पड़ा, जिससे उनका करियर धीरे-धीरे गिरावट की ओर बढ़ा। 2010 में चकिंग के आरोपों की जांच के लिए उन्हें ऑस्ट्रेलिया भेजा गया। इसके बाद 2011 में वह पुणे वॉरियर्स इंडिया की टीम में शामिल हुए, लेकिन वह अपनी छाप नहीं छोड़ सके।

गुमनामी की जिंदगी और संन्यास की घोषणा

पिछले कुछ समय से कामरान खान गुमनामी की जिंदगी जी रहे थे। उन्होंने सोशल मीडिया के जरिए अपने संन्यास की घोषणा की। अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर एक स्टोरी शेयर करते हुए कामरान ने लिखा, “गुड बाय IPL और वो खेल जिसको मैं बहुत पसंद करता हूं। इस खेल ने मुझे काफी कुछ दिया है। सभी कोच, दिवंगत शेन वॉर्र, राजस्थान रॉयल्स, पुणे वॉरियर्स इंडिया और मेरे सभी दोस्त और मेरे परिवार को धन्यवाद।” उनके इस संदेश ने क्रिकेट प्रेमियों के दिलों को छू लिया।

शेन वॉर्न का प्रभाव

कामरान खान के करियर में शेन वॉर्न का प्रभाव बहुत बड़ा था। वॉर्न ने कामरान की प्रतिभा को पहचाना और उन्हें अपनी टीम में महत्वपूर्ण भूमिका दी। वॉर्न के मार्गदर्शन में ही कामरान ने अपनी तेज गेंदबाजी से सबको प्रभावित किया। वॉर्न ने उन्हें ‘टॉरनेडो’ का नाम दिया था, जो उनके तेज गेंदबाजी के कौशल को बखूबी दर्शाता है।

क्रिकेट से विदाई

कामरान खान का क्रिकेट करियर भले ही बहुत लंबा नहीं रहा, लेकिन उनके कुछ खास प्रदर्शन आज भी याद किए जाते हैं। आईपीएल के इतिहास में उनका नाम हमेशा के लिए दर्ज हो गया है, खासकर उस पहले सुपर ओवर के लिए जिसे उन्होंने 2009 में फेंका था। कामरान ने अपने संन्यास की घोषणा के साथ ही क्रिकेट प्रेमियों को एक भावुक अलविदा कहा।

RELATED LATEST NEWS