Download Our App

Follow us

Home » भारत » उद्धव गुट और शिंदे गुट में असली शिवसेना को लेकर लड़ाई, SC सुनवाई को तैयार

उद्धव गुट और शिंदे गुट में असली शिवसेना को लेकर लड़ाई, SC सुनवाई को तैयार

महाराष्ट्र विधानसभा के अध्यक्ष राहुल नार्वेकर ने 10 जनवरी को शिंदे गुट को असली शिवसेना बताया था। इसके खिलाफ उद्धव गुट के विधायक सुनील प्रभु ने याचिका लगाई थी। जिसे लिस्ट करने के लिए सुप्रीम कोर्ट तैयार हो गया है। सुप्रीम कोर्ट मामले को 19 जुलाई को लिस्ट करने पर विचार कर रहा है।

सुनील प्रभु के वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने मामले को जल्द लिस्ट करने को कहा है। सिंघवी ने कहा कि महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव होने है। इसलिए केस को 12 जुलाई को ही सुनना चाहिए। इस पर CJI चंद्रचूड़ ने कहा- ठीक है। हम देखते हैं। हमें मेल पर रीक्वेस्ट भेजिए।

दरअसल, शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे ने जून 2022 में पार्टी से बगावत की थी। इसके बाद शिंदे ने भाजपा के साथ मिलकर राज्य में सरकार बनाई और खुद मुख्यमंत्री बन गए। इसके बाद शिंदे ने शिवसेना पर अपना दावा कर दिया। ठाकरे गुट का आरोप है कि शिंदे ने असंवैधानिक रूप से सत्ता हथिया ली और असंवैधानिक सरकार का नेतृत्व कर रहे हैं।

16 फरवरी 2023 को चुनाव आयोग ने एकनाथ शिंदे गुट को असली शिवसेना मान लिया था। साथ ही शिंदे गुट को शिवसेना का नाम और चिह्न (तीर-कमान) को इस्तेमाल करने की इजाजत दे दी। उद्धव गुट ने चुनाव आयोग के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। सुप्रीम कोर्ट ने स्पीकर राहुल नार्वेकर को इस पर फैसला करने को कहा था।

10 जनवरी 2024 को राहुल नार्वेकर ने शिंदे गुट को असली शिवसेना बताया था। इसके खिलाफ ठाकरे गुट की ओर से कपिल सिब्बल ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाई थी। 22 जनवरी 2024 को कोर्ट ने शिंदे समेत सभी बगावती विधायकों को नोटिस जारी किया था।

राहुल नार्वेकर के फैसले की 3 अहम बातें…

  • शिंदे के पास शिवसेना के 55 में से 37 विधायक, उनका गुट ही असली शिवसेना। चुनाव आयोग ने भी यही फैसला दिया था।
  • शिंदे को विधायक दल के नेता पद से हटाने का फैसला उद्धव का था, पार्टी का नहीं। शिवसेना संविधान के अनुसार वे अकेले किसी को पार्टी से नहीं निकाल सकते।
  • शिंदे गुट की तरफ से उद्धव गुट के 14 विधायकों को अयोग्य ठहराने की मांग खारिज। शिंदे गुट ने केवल आरोप लगाए, उनके समर्थन में सबूत नहीं दिए।

स्पीकर नार्वेकर के फैसले के आधार

शिवसेना के 1999 के संविधान को ही आधार माना गया था। स्पीकर ने कहा था- 2018 का संशोधित संविधान चुनाव आयोग के रिकॉर्ड में नहीं है, इसलिए वह मान्य नहीं है। 21 जून 2022 को फूट के बाद शिंदे गुट ही असली शिवसेना था। उद्धव गुट के सुनील प्रभु का व्हिप उस तारीख के बाद लागू नहीं होता, इसीलिए बतौर व्हिप भरत गोगावले की नियुक्ति सही है।

 

यह भी पढ़ें-  बिहार की पहली ट्रांसजेंडर सब-इंस्पेक्टर बनीं मानवी मधु कश्यप, कहा- मैंने जीवन में बहुत संघर्ष किया है

 

 

RELATED LATEST NEWS