Download Our App

Follow us

Home » भारत » आम जनता को महंगाई से मिली राहत: जुलाई 2023 में 4.44% थी, मई में महंगाई दर घटकर 4.75%

आम जनता को महंगाई से मिली राहत: जुलाई 2023 में 4.44% थी, मई में महंगाई दर घटकर 4.75%

मई में रिटेल महंगाई 4.75% रही। यह 12 महीने का निचला स्तर है। जुलाई 2023 में यह 4.44% थी। नेशनल स्टैटिस्टिकल ऑफिस ने बुधवार 12 जून को ये आंकड़े जारी किए।

अप्रैल में रिटेल महंगाई घटकर 4.83% पर आ गई थी। तब यह 11 महीने के सबसे कम लेवल पर थी। जून 2023 में यह 4.81% थी। हालांकि अप्रैल महीने में खाने-पीने की चीजें महंगी हुई थीं।

महंगाई कैसे प्रभावित करती है?

महंगाई का सीधा संबंध पर्चेजिंग पावर से है। उदाहरण के लिए यदि महंगाई दर 6% है, तो अर्जित किए गए 100 रुपए का मूल्य सिर्फ 94 रुपए होगा। इसलिए महंगाई को देखते हुए ही निवेश करना चाहिए। नहीं तो आपके पैसे की वैल्यू कम हो जाएगी।

महंगाई कैसे बढ़ती-घटती है?

महंगाई का बढ़ना और घटना प्रोडक्ट की डिमांड और सप्लाई पर निर्भर करता है। अगर लोगों के पास पैसे ज्यादा होंगे तो वे ज्यादा चीजें खरीदेंगे। ज्यादा चीजें खरीदने से चीजों की डिमांड बढ़ेगी और डिमांड के मुताबिक सप्लाई नहीं होने पर इन चीजों की कीमत बढ़ेगी।

इस तरह बाजार महंगाई की चपेट में आ जाता है। सीधे शब्दों में कहें तो बाजार में पैसों का अत्यधिक बहाव या चीजों की शॉर्टेज महंगाई का कारण बनता है। वहीं अगर डिमांड कम होगी और सप्लाई ज्यादा तो महंगाई कम होगी।

CPI से तय होती है महंगाई

एक ग्राहक के तौर पर आप और हम रिटेल मार्केट से सामान खरीदते हैं। इससे जुड़ी कीमतों में हुए बदलाव को दिखाने का काम कंज्यूमर प्राइस इंडेक्स यानी CPI करता है। हम सामान और सर्विसेज के लिए जो औसत मूल्य चुकाते हैं, CPI उसी को मापता है।

कच्चे तेल, कमोडिटी की कीमतों, मेन्युफैक्चर्ड कॉस्ट के अलावा कई अन्य चीजें भी होती हैं, जिनकी रिटेल महंगाई दर तय करने में अहम भूमिका होती है। करीब 300 सामान ऐसे हैं, जिनकी कीमतों के आधार पर रिटेल महंगाई का रेट तय होता है।

 

ये भी पढ़ें- कुवैत में बिल्डिंग वर्करों के घर में लगी आग, कई भारतीयों समेत 41 लोगों की हुई मौत

 

 

 

RELATED LATEST NEWS