Download Our App

Follow us

Home » मनोरंजन » Oscars का रोचक इतिहास, कैसे हुई थी शुरूआत

Oscars का रोचक इतिहास, कैसे हुई थी शुरूआत

अकादमी पुरस्कार यानी ऑस्कर (Oscars) अवॉर्ड्स फिल्म जगत का सबसे बड़ा अवॉर्ड है। इस अवॉर्ड को हर वर्ष सिनेमा में योगदान देने वालों को अकादमी ऑफ मोशन पिक्चर आर्ट्स एंड साइंसेज की तरफ से दिया जाता है। अकादमी पुरस्कारों को ऑस्कर क्यों कहा जाता है और इसकी ट्रॉफी कैसी बनी। कब हुई इसकी शुरूआत। चलिए जानते हैं इसके बारे में।

सफर का आगाज

ऑस्कर अवार्ड की शुरुआत की कहानी बेहद ही दिलचस्प है। वर्ष 1927 की बात है जब मोशन पिक्चर्स इंडस्ट्री के कुछ लोगों ने सोचा क्यों सिनेमा इंडस्ट्री से जुड़े उन लोगों को सम्मानित किया जाए जो इस क्षेत्र में योगदान दे रहे हैं। उन दिनों एम जी एम स्टूडियो के हेड लुइस बी मेयर थे। उन्होंने अभिनेता कॉनरेड नागेल, प्रोड्यूसर फीड बीटसोन और डायरेक्टर फ्रेड निबलो के साथ इस विषय पर चर्चा किया और यहां से ऑस्कर अवार्ड्स की ओर पहला कदम बढ़ा। इसके बाद लॉस एंजिल्स में एक डिनर पार्टी का आयोजन किया गया। इस पार्टी में कुल 36 लोगों ने हिस्सा लिया, जहां संगठन बनाने के प्रस्ताव पर बात हुई।

कैसे बनी ऑस्कर की ट्रॉफी

ऑस्कर ट्रॉफी के लिए कई कलाकारों से उनके डिजाइन्स पेश करने के लिए अकादमी ऑफ मोशन पिक्चर्स आर्ट्स एंड साइंसेज ने कहा था, जिसके बाद कलाकार जॉर्ज स्टैनली की बनाई हुई डिजाइन को पसंद किया गया। ट्रॉफी धातु से बनी होती है। मूर्ति पर गोल्ड की लेयर रहती है। ऑस्कर ट्रॉफी 13.5 इंच लंबी होती है और इसका वजन 8.5 पाउंड यानी 3.85 किलो होता है।

अवॉर्ड का नाम ऑस्कर कैसे पड़ा

लोग इस अवॉर्ड को ऑस्कर अवॉर्ड के नाम से जानते हैं, लेकिन इसका असली नाम अलग है। इसका असली नाम ‘अकादमी अवॉर्ड ऑफ मेरिट’ है। इस अवॉर्ड का आयोजन पहली बार 16 मई, 1929 में किया गया था। ऑस्कर के पहले समारोह को अमेरिका में एक होटल में आयोजित किया गया था, वो सिर्फ 15 मिनट तक ही चला था।

अकादमी पुरस्कार ट्रॉफी का नाम ‘ऑस्कर’ रखने का श्रेय अकादमी लाइब्रेरियन मार्गरेट हेरिक को दिया जाता है। उन्होंने इसका नाम ‘ऑस्कर’ रखा था, क्योंकि उन्हें ट्रॉफी उनके अंकल ऑस्कर जैसी लगी थी।

Shree Om Singh
Author: Shree Om Singh

Leave a Comment

RELATED LATEST NEWS