Download Our App

Follow us

Home » दुनिया » अल जजीरा चैनल को इजरायल ने किया बैन, नेतन्याहू बोले- इससे फैल रहा था आतंक

अल जजीरा चैनल को इजरायल ने किया बैन, नेतन्याहू बोले- इससे फैल रहा था आतंक

इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने अल जजीरा न्यूज चैनल को बंद करने का फैसला किया है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, सोमवार को एक कानून के पारित होने के बाद अल जजीरा नेटवर्क को बंद करने का निर्णय लिया गया है।

सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार, ये कानून सरकार को राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा माने जाने वाले विदेशी न्यूज चैनल पर प्रतिबंध लगाने का अधिकार देता है।

नेतन्याहू ने एक्स पर किया पोस्ट

कानून पारित होने के बाद सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर एक पोस्ट में नेतन्याहू ने अपनी मंशा जाहिर की और कहा कि देश में कतर स्थित न्यूज चैनल की गतिविधि को रोकने के लिए नए कानून के अनुसार तुरंत कार्रवाई करें।

अल जजीरा ने की बयान की निंदा

हालांकि, अल जजीरा ने नेतन्याहू के बयान की निंदा की और कहा कि वह अपनी साहसिक कवरेज को जारी रखेंगे। नया कानून प्रधानमंत्री और संचार मंत्री को इजरायल में चल रहे विदेशी नेटवर्कों को अस्थायी रूप से बंद करने का आदेश देने का अधिकार देता है।

अल जजीरा की कवरेज को लेकर सवाल उठा चुका है इजरायल

सीएनएन के अनुसार, नेतन्याहू की सरकार ने लगातार अल जजीरा के अभियानों के बारे में शिकायत की है, जिसमें इजरायल विरोधी पूर्वाग्रह का आरोप लगाया गया है। प्रधानमंत्री नेतन्याहू ने अपने बयान में अल जजीरा पर हमास के लिए काम करने का आरोप लगाया।

व्हाइट हाउस ने जताई चिंता

व्हाइट हाउस ने भी अल जजीरा को बंद करने के कदम की रिपोर्ट को चिंताजनक बताया। व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव कैरिन जीन-पियरे ने सोमवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि अमेरिका दुनिया भर के पत्रकारों के कार्यों का समर्थन करता है और इसमें वे लोग भी शामिल हैं जो गाजा में युद्ध की रिपोर्टिंग कर रहे हैं।

विवादों से अल जजीरा का पुराना नाता

अल जजीरा कतर देश का एक मीडिया समूह है, जिसका मुख्यालय दोहा स्थित कतर रेडियो और टेलीविजन कॉर्पोरेशन कॉम्प्लेक्स में है। यह समूह अरबी और इंग्लिश भाषा में अपने कई चैनलों के माध्यम से खबर प्रसारित करता है। अल जजीरा को कतर की सरकार से मोटी फंडिंग मिलती है, लेकिन अल जजीरा इस आरोप को खारिज करते हुए कहता है कि उसके ऊपर कतर सरकार का कोई दबाव नहीं है। अल जजीरा अपनी रिपोर्टिंग को लेकर अक्सर विवादों में रहता है। माना जाता है कि यह कट्टर इस्लामिक चैनल है। हाल ही में सीएए लागू होने पर भारत के खिलाफ भी अल जजीरा ने विवादित खबर चलाई थी।

Shree Om Singh
Author: Shree Om Singh

Leave a Comment

RELATED LATEST NEWS