Download Our App

Follow us

Home » दुनिया » कुवैत से कोच्चि लाया गया 45 भारतीयों का शव, एयरपोर्ट पर दी गई श्रद्धांजलि

कुवैत से कोच्चि लाया गया 45 भारतीयों का शव, एयरपोर्ट पर दी गई श्रद्धांजलि

कुवैत (Kuwait) के मंगाफ में बुधवार (12 जून) को लगी भीषण आग में मारे गए 45 भारतीयों के शव लेकर भारतीय वायुसेना का स्पेशल एयरक्राफ्ट भारत पहुंच गया है। यह केरल के कोच्चि एयरपोर्ट पर लैंड हुआ, क्योंकि मृतकों में सबसे ज्यादा 23 लोग केरल के हैं। इसके बाद एयरक्राफ्ट दिल्ली जाएगा।

जान गंवाने वाले अन्य 22 लोगों में तमिलनाडु के 7, आंध्र प्रदेश-उत्तर प्रदेश के 3-3 और बिहार, ओडिशा, कर्नाटक, महाराष्ट्र, झारखंड, हरियाणा, पंजाब और पश्चिम बंगाल के 1-1 लोग हैं। एक मृतक किस राज्य का है, यह सामने नहीं आया है।

हादसे के बाद भारत के विदेश राज्य मंत्री कीर्तिवर्धन सिंह कुवैत गए थे। वे पांच अस्पतालों में गए, जहां घायल भारतीयों का इलाज किया जा रहा है। कीर्तिवर्धन सिंह आज उसी एयरक्राफ्ट से वापस लौटे हैं, जिनसे शवों को लाया गया है।

कुवैत के मंगाफ शहर की एक बिल्डिंग में 12 जून को लगी आग में 49 लोगों की मौत हुई थी, जबकि 50 से ज्यादा लोग घायल हैं। इनमें से 48 शवों की DNA टेस्ट के जरिए पहचान की गई, जिसमें 45 भारतीय निकले, जबकि 3 फिलिपींस के हैं।

केरल की स्वास्थ्य मंत्री का आरोप- केंद्र सरकार ने कुवैत जाने से रोका

केरल की स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज ने शुक्रवार (14 जून) को आरोप लगाया कि केंद्र सरकार ने उन्हें कुवैत जाने की इजाजत नहीं दी। वीना जॉर्ज ने कहा- मरने वालों और घायलों में सबसे ज्यादा लोग केरल के थे। इसके बावजूद हमें कुवैत जाने से रोका गया। यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है।

केरल के मंत्री के राजन ने भी इसकी आलोचना की। उन्होंने कहा- हम हादसे के बाद अपने लोगों की मदद करना चाहते थे, लेकिन केंद्र सरकार ने तकनीकी कारणों का हवाला देकर स्वास्थ्य मंत्री को कुवैत जाने से रोका।

केरल की स्वास्थ्य मंत्री बोलीं- एयरपोर्ट पर शवों को श्रद्धांजलि दी जाएगी

कोच्चि एयरपोर्ट पर पहुंचीं केरल की स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज ने बताया कि थोड़ी देर में एयरक्राफ्ट पहुंचने वाला है। मुख्यमंत्री भी यहां पहुंच रहे हैं। यहां श्रद्धांजलि देने के लिए शवों को कुछ देर रखा जाएगा। सब कुछ कम से कम समय में किया जाएगा।

स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि शवों को एंबुलेंस से उनके परिवारों के पास भेजा जाएगा। हर शव पर एक नंबर लिखा है। इसी तरह एंबुलेंसों की भी नंबरिंग की गई है। हर एंबुलेंस में पुलिस की टीम मौजूद रहेगी। सभी तैयारी की जा चुकी हैं।

वीना जॉर्ज ने कहा कि यह घटना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। मरने वालों में आधे से अधिक केरल से हैं और जिनका इलाज चल रहा है, उनमें भी ज्यादातर केरल के हैं। स्वास्थ्य मंत्री के मुताबिक, कुवैत में केरल के लगभग 30 लोग भर्ती हैं। इनमें से 7 आईसीयू में हैं।

झारखंड के मोहम्मद अली हुसैन 18 दिन पहले कुवैत गए थे

झारखंड के रांची के रहने वाले 24 साल के मोहम्मद अली हुसैन 18 दिन पहले ही कुवैत गए थे, जहां इस हादसे में उनकी मौत हो गई। उत्तर प्रदेश के तीन मृतकों की पहचान वाराणसी के प्रवीण माधव सिंह और गोरखपुर के जयराम गुप्ता और अंगद गुप्ता के तौर पर हुई है। वहीं आंध्र प्रदेश के मृतकों की पहचान श्रीकाकुलम जिले के टी लोकानंदम, पश्चिम गोदावरी के एम सत्यानारायण और एम ईश्वारुडु के तौर पर हुई है।

पीएम मोदी ने मृतक के परिजनों को 2 लाख मुआवजा देने का ऐलान किया

घटना को देखते हुए बुधवार (12 जून) को PM मोदी ने दिल्ली में हाई-लेवल मीटिंग की। बैठक में घोषणा की गई कि मरने वाले भारतीयों के परिवारों को प्रधानमंत्री राहत कोष से 2 लाख रुपए का मुआवजा दिया जाएगा। वहीं NRI बिजनेसमैन और UAE के लुलु ग्रुप के चेयरमैन ने मृतकों के परिवार को 5 लाख रुपए की मदद देने का ऐलान किया है।

यह कुवैत में लगी अब तक की सबसे भीषण आग

कुवैत में 12 जून को इमारत में लगी अब तक की सबसे भीषण आग है। वहीं मरने वालों की संख्या के मामले में देश में दूसरी सबसे बड़ी आग है। इससे पहले अगस्त 2009 में जाहरा शहर में एक महिला ने पति की दूसरी शादी से नाराज होकर शादी के तंबू में आग लगा दी थी, जिससे 56 महिलाओं और बच्चों की मौत हो गई थी।

शॉर्ट सर्किट से बिल्डिंग में लगी आग

कुवैत के समयानुसार यह हादसा बुधवार (12 जून) सुबह करीब 4:30 बजे हुआ। कुवैती फायर फोर्स के मुताबिक यह आग इलेक्ट्रिकल सर्किट के चलते लगी थी। उस वक्त सभी कामगार सो रहे थे। आग लगने की वजह से मची भगदड़ के बीच कई लोगों ने घबराकर बिल्डिंग की खिड़कियों से छलांग लगा दी। कई लोग इमारत के अंदर ही फंसे रह गए और धुएं में दम घुटने से उनकी मौत हो गई।

कुवैती मीडिया के मुताबिक, इस बिल्डिंग को कंस्ट्रक्शन कंपनी NBTC ग्रुप ने किराए पर ले रखा था। इसमें 195 से ज्यादा मजदूर रह रहे थे। NBTC ग्रुप के मालिक मलयाली व्यापारी केजी अब्राहम हैं।

केजी अब्राहम केरल के तिरुवल्ला के व्यवसायी हैं। केजी अब्राहम, जिन्हें केजीए के नाम से भी जाना जाता है, केजीए समूह के संस्थापक और अध्यक्ष हैं। यह कंपनी 1977 से कुवैत के ऑयल एंड इंडस्ट्रीज का हिस्सा है।

 

ये भी पढ़ें-आम जनता को महंगाई से मिली राहत: जुलाई 2023 में 4.44% थी, मई में महंगाई दर घटकर 4.75%

 

RELATED LATEST NEWS