Download Our App

Follow us

Home » अंतरराष्ट्रीय संबंध » भारत-रूस संबंधों में नई मजबूती: पीएम मोदी की रूस यात्रा

भारत-रूस संबंधों में नई मजबूती: पीएम मोदी की रूस यात्रा

मॉस्को में 22वीं भारत-रूस वार्षिक शिखर बैठक

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस वक्त दो दिनों की रूस की यात्रा पर हैं। पीएम मोदी मॉस्को में राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ 22वें भारत-रूस वार्षिक शिखर बैठक के लिए गए हैं। करीब 5 साल बाद रूस की यात्रा पर गए पीएम मोदी को इस यात्रा में विशेष स्वागत और सम्मान मिला। इस दौरे ने यह स्पष्ट किया कि वर्तमान परिस्थितियों में भारत रूस के लिए कितना महत्वपूर्ण है।

रूस की मौजूदा जरूरतें

रूस-यूक्रेन युद्ध को अब दो साल से ज्यादा समय हो चुका है। अमेरिका और पश्चिमी देशों ने रूस पर कड़े प्रतिबंध लगाए हैं और यूक्रेन का समर्थन कर रहे हैं। ऐसे समय में रूस को अपने लिए भरोसेमंद साथियों की तलाश है। भारत की आजादी के बाद से ही रूस (तब USSR) के साथ भारत के संबंध अच्छे रहे हैं। चीन की बिना परवाह किए जम्मू-कश्मीर, आतंकवाद समेत विभिन्न मुद्दों पर रूस ने हमेशा भारत का साथ दिया है।

चीन को संदेश: रूस में पीएम मोदी का स्वागत

जब पीएम मोदी आधिकारिक यात्रा पर रूस पहुंचे, तो एयरपोर्ट पर उनका स्वागत करने रूस के प्रथम उप प्रधानमंत्री डेनिस मांटुरोव पहुंचे थे। मांटुरोव ने पीएम मोदी को कार में अपने साथ लेकर होटल तक छोड़ा। यह स्वागत उस समय के मुकाबले काफी महत्वपूर्ण था जब चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग का स्वागत रूस के निचले स्तर के उप प्रधानमंत्री ने किया था। इस कदम से यह स्पष्ट हुआ कि रूस के लिए भारत की अहमियत चीन से कहीं ज्यादा है।

प्राइवेट बैठक: पुतिन के घर पीएम मोदी का स्वागत

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने पीएम मोदी को अपने आवास नोवो-ओगारियोवो पर आमंत्रित किया। इस विशेष आमंत्रण में दोनों नेताओं ने एक साथ डिनर किया और एक अनौपचारिक प्राइवेट बैठक भी की। इस बैठक में दुनिया के विभिन्न मुद्दों पर बातचीत हुई। पुतिन ने पीएम मोदी की प्रशंसा करते हुए कहा कि तीसरी बार प्रधानमंत्री चुने जाने पर उन्हें बधाई दी और कहा कि यह आपके कई वर्षों के काम का नतीजा है। पुतिन ने कहा, “आप बहुत ऊर्जावान व्यक्ति हैं, जो भारत और भारतीय लोगों के हित में परिणाम प्राप्त करने में सक्षम हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने अपना पूरा जीवन अपने लोगों की सेवा में समर्पित कर दिया है और लोग इसे महसूस कर सकते हैं।”

भारत-रूस रिश्तों में नई मजबूती

पीएम मोदी की पुतिन से मुलाकात ऐसे समय में हो रही है जब पूरी दुनिया एक बार फिर से दो धड़ों में बंटती नजर आ रही है। इस कारण सभी की नजर पीएम मोदी और पुतिन की मुलाकात पर है। बीते कुछ दिनों में भारत और रूस के रिश्ते और भी ज्यादा मजबूत हुए हैं। दोनों देशों के बीच कई मुद्दों पर साझेदारी बढ़ी है। भारत बड़े स्तर पर रूस से तेल का आयात कर रहा है जिससे भारत को तो फायदा हो ही रहा है, साथ ही रूस की अर्थव्यवस्था को भी मजबूती मिल रही है।

RELATED LATEST NEWS