Download Our App

Follow us

Home » चुनाव » लोकसभा में स्पीकर का पद एनडीए के हिस्से, ओम बिरला बने स्पीकर

लोकसभा में स्पीकर का पद एनडीए के हिस्से, ओम बिरला बने स्पीकर

एनडीए और इंडिया गठबंधन के बीच कड़ी टक्कर
लोकसभा में स्पीकर के पद के लिए एनडीए और इंडिया गठबंधन के बीच कड़ा मुकाबला हुआ, जिसमें एनडीए के उम्मीदवार ओम बिरला ने बाजी मारी। ओम बिरला एनडीए के उम्मीदवार थे जबकि इंडिया गठबंधन के उम्मीदवार सुरेश थे। सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच इस पद को लेकर तनातनी बनी रही और आखिरकार एनडीए को जीत मिली।

वोटिंग के समीकरण
लोकसभा में एनडीए के पक्ष में 293 सांसद थे जबकि इंडिया गठबंधन के पास 233 सांसद थे। इंडिया गठबंधन के 5 सांसदों ने अभी तक शपथ नहीं ली थी, जिससे वे वोटिंग में हिस्सा नहीं ले पाए। जिन सांसदों ने शपथ नहीं ली, उनमें तृणमूल कांग्रेस के शत्रुघ्न सिन्हा, दीपक अधिकारी, शेख नुरुल इस्लाम, समाजवादी पार्टी के अफजल अंसारी, और कांग्रेस के शशि थरूर शामिल हैं। इसके अलावा, निर्दलीय अमृतपाल सिंह और शेख अब्दुल राशिद भी वोटिंग में शामिल नहीं हो सके क्योंकि वे जेल में बंद हैं। इस कारण से इंडिया गठबंधन कमजोर रहा।

एनडीए का शक्ति प्रदर्शन
एनडीए के पास लोकसभा में 293 सांसदों का मजबूत समर्थन है। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के 240 सांसद, तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) के 16 सांसद, जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) के 12 सांसद, शिवसेना (शिंदे गुट) के 7 सांसद, लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) के 5 सांसद, राष्ट्रीय लोकदल (आरएलडी) के 2 सांसद, जनसेना पार्टी के 2 सांसद, जनता दल सेक्युलर (जेडीएस) के 2 सांसद, अपना दल के 1 सांसद, हिंदुस्तान अवामी मोर्चा के 1 सांसद, एनसीपी (अजित पवार गुट) के 1 सांसद, यूपीपीएल के 1 सांसद, असम गणपरिषद के 1 सांसद, आजसू के 1 सांसद और एसकेएम के 1 सांसद शामिल हैं।

इंडिया गठबंधन का आंकड़ा
इंडिया गठबंधन के पास कुल 233 सांसद हैं। कांग्रेस पार्टी के 98 सांसद, समाजवादी पार्टी (एसपी) के 37 सांसद, तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के 29 सांसद, डीएमके के 22 सांसद, शिवसेना (उद्धव ठाकरे गुट) के 9 सांसद, एनसीपी (शरद पवार गुट) के 8 सांसद, राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के 4 सांसद, लेफ्ट के 8 सांसद, आम आदमी पार्टी (एएपी) के 3 सांसद, झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम) के 3 सांसद, आईयूएमएल के 3 सांसद, वीसीके के 2 सांसद, नेशनल कॉन्फ्रेंस के 2 सांसद, केरल कांग्रेस के 1 सांसद, आरएसपी के 1 सांसद, बीएपी के 1 सांसद, एमडीएमके के 1 सांसद, और अन्य पार्टियों के 4 सांसद हैं।

सीटों में बदलाव
लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने 99 सीटें जीती थीं, लेकिन राहुल गांधी के वायनाड सीट छोड़ने के बाद यह संख्या घटकर 98 रह गई है। इसी तरह, समाजवादी पार्टी के अखिलेश यादव ने कन्नौज सीट छोड़ दी है, जिससे उनकी पार्टी के सांसदों की संख्या भी 37 रह गई है।

निष्कर्ष
एनडीए के पास पूर्ण बहुमत होने के कारण ओम बिरला का स्पीकर पद के लिए चुना जाना निश्चित था। एनडीए ने अपने 293 सांसदों के समर्थन से यह साबित कर दिया कि उनका गठबंधन मजबूत और संगठित है। दूसरी ओर, इंडिया गठबंधन के पास संख्या कम होने के कारण वह इस मुकाबले में पीछे रह गया।

इस प्रकार, एनडीए ने लोकसभा में अपनी पकड़ को और मजबूत कर लिया है और ओम बिरला एक बार फिर स्पीकर पद पर काबिज हुए हैं। यह चुनावी गणित और राजनीतिक समीकरणों का एक उदाहरण है कि कैसे संख्या बल सत्ता पक्ष को मजबूत बनाता है और विपक्ष को चुनौतीपूर्ण स्थिति में रखता है।

RELATED LATEST NEWS