Download Our App

Follow us

Home » खेल » पेरिस ओलंपिक 2024: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का खिलाड़ियों को शुभकामना संदेश

पेरिस ओलंपिक 2024: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का खिलाड़ियों को शुभकामना संदेश

 

पेरिस ओलंपिक 2024 की शुरुआत 26 जुलाई से हो रही है और इस बार भारत की नजर अपने पदकों की संख्या को दोगुनी करने पर है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ओलंपिक में भाग लेने वाले भारतीय खिलाड़ियों के दल से मुलाकात की और उन्हें शुभकामनाएं दीं। उन्होंने विश्वास जताया कि भारतीय खिलाड़ी अपने प्रदर्शन से देश को गौरवान्वित करेंगे और 140 करोड़ लोगों की उम्मीदों पर खरा उतरेंगे।

भारतीय दल का आत्मविश्वास

भारत इस बार पेरिस ओलंपिक के लिए लगभग 120 खिलाड़ियों का दल भेज रहा है। भारतीय ओलंपिक संघ को उम्मीद है कि ये खिलाड़ी टोक्यो ओलंपिक से बेहतर प्रदर्शन करेंगे। टोक्यो ओलंपिक में भारतीय दल ने 7 पदक जीते थे, जो भारत का अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। पेरिस ओलंपिक में इस संख्या को और बढ़ाने की कोशिश की जाएगी।

नीरज चोपड़ा और अन्य खिलाड़ियों से पीएम मोदी की मुलाकात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नीरज चोपड़ा, मुक्केबाज निकहत जरीन और ओलंपिक में दो बार की पदक विजेता बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु से वर्चुअल बातचीत भी की। इस मुलाकात के दौरान प्रधानमंत्री ने नीरज चोपड़ा से मजाकिया अंदाज में पूछा कि वह उन्हें उनकी मां के हाथ का बना चूरमा कब खिलाएंगे। इस पर नीरज ने जवाब दिया कि वह जल्द ही हरियाणा का चूरमा लाकर उन्हें खिलाएंगे।

खेल मंत्री और भारतीय ओलंपिक संघ के साथ बैठक

भारतीय खिलाड़ियों के दल के साथ खेल मंत्री मनसुख मांडविया, खेल राज्य मंत्री रक्षा खडसे और भारतीय ओलंपिक संघ की अध्यक्ष पीटी उषा भी मौजूद थीं। उन्होंने भी खिलाड़ियों को शुभकामनाएं दीं और उनके आत्मविश्वास को बढ़ाया।

टोक्यो ओलंपिक में भारत का प्रदर्शन

टोक्यो ओलंपिक में भारत ने 7 पदक जीते थे, जिनमें नीरज चोपड़ा का भाला फेंक में जीता गया स्वर्ण पदक भी शामिल है। यह पदक भारत के लिए गर्व का विषय था और इस बार पेरिस ओलंपिक में भारतीय खिलाड़ियों से उम्मीद की जा रही है कि वे इससे भी बेहतर प्रदर्शन करेंगे।

भारत की तैयारी और उम्मीदें
पेरिस ओलंपिक 2024 के लिए भारतीय दल पूरी तरह से तैयार है। खिलाड़ियों की मेहनत और उनकी उत्कृष्टता के साथ, भारतीय ओलंपिक संघ और पूरा देश उनसे बड़े प्रदर्शन की उम्मीद कर रहा है। पीएम मोदी की शुभकामनाएं और समर्थन ने खिलाड़ियों का मनोबल और ऊंचा कर दिया है। इस बार भारत का लक्ष्य न केवल पदकों की संख्या बढ़ाना है, बल्कि ओलंपिक इतिहास में एक नया अध्याय लिखना भी है।

RELATED LATEST NEWS