Download Our App

Follow us

Home » चुनाव » राहुल गांधी ने अमेठी छोड़ दिया, हारे हुए लोग अक्सर ऐसा करते हैं- BJP नेता अमित मालवीय

राहुल गांधी ने अमेठी छोड़ दिया, हारे हुए लोग अक्सर ऐसा करते हैं- BJP नेता अमित मालवीय

कांग्रेस द्वारा राहुल गांधी को रायबरेली से मैदान में उतारने के फैसले के बाद, भारतीय जनता पार्टी के नेता अमित मालवीय ने शुक्रवार को कहा कि यह आश्चर्य की बात नहीं है कि वायनाड सांसद ने अमेठी लोकसभा सीट छोड़ दी है, उन्होंने कहा कि यह राहुल गांधी की स्वीकारोक्ति है कि वह अमेठी नहीं जीत सकते.

एक्स पर एक पोस्ट में, अमित मालवीय ने कहा, “आखिरकार, राहुल गांधी ने अमेठी छोड़ दिया है. हारने वाले अक्सर ऐसा करते हैं इसलिए, इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं है. यह भी स्वीकारोक्ति है कि राहुल गांधी जीत नहीं सकते. ऐसे में, कोई क्यों I.N.D.I गठबंधन पर अपना वोट बर्बाद करें? तीसरे चरण के बाद, मतदान और भी अधिक एनडीए के पक्ष में होगा.”

रायबरेली से राहुल गांधी को मैदान में उतारने के कांग्रेस के कदम ने इस सीट से प्रियंका गांधी वाड्रा के चुनाव लड़ने की सभी अटकलों को समाप्त कर दिया. मालवीय ने कहा कि यह कदम कांग्रेस पार्टी द्वारा “प्रियंका गांधी वाड्रा” को सत्ता से बाहर रखने का एक प्रयास है.

मालवीय ने कहा, “यह दिन के उजाले की तरह स्पष्ट है कि राहुल गांधी खेमा नहीं चाहता है कि बहन आगे बढ़े, कहीं ऐसा न हो कि वह उन पर भारी पड़ जाए. कांग्रेस के भीतर सत्ता के लिए भाई-बहन का यह संघर्ष कैसे आगे बढ़ता है, यह देखना बाकी है. लेकिन फिलहाल, प्रियंका वाड्रा फिर से हार गई हैं.”

इस संबंध में, उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने रायबरेली और अमेठी के चुनाव नतीजों पर भरोसा जताया. पाठक ने कहा कि राहुल गांधी को रायबरेली की जनता स्वीकार नहीं करेगी.

ब्रजेश पाठक ने कहा, “रायबरेली और अमेठी में बीजेपी भारी अंतर से जीतने जा रही है. राहुल गांधी पहले अमेठी छोड़कर वायनाड गए थे, अब वह रायबरेली आए हैं. रायबरेली की जनता उन्हें कभी स्वीकार नहीं करेगी. बीजेपी सभी 80 सीटें जीतने जा रही है.”

बता दें कि, राहुल गांधी का मुकाबला बीजेपी के दिनेश प्रताप सिंह से है. राहुल वर्तमान में लोकसभा में वायनाड का प्रतिनिधित्व करते हैं जबकि स्मृति ईरानी अमेठी से नए कार्यकाल के लिए बोली लगा रही हैं. रायबरेली से सोनिया गांधी राज्यसभा की सदस्य बनीं. कांग्रेस पार्टी ने अमेठी से पार्टी के वफादार किशोरी लाल शर्मा को भी उम्मीदवार बनाया है, यह सीट राहुल गांधी 2019 के आम चुनावों में भाजपा नेता स्मृति ईरानी से हार गए थे.

2004 में राहुल को कमान सौंपने से पहले सोनिया गांधी ने 1999 में यहां से चुनाव लड़ा था. ईरानी ने इससे पहले अमेठी के लिए भाजपा उम्मीदवार के रूप में अपना नामांकन दाखिल किया था. इन सीटों पर 20 मई को पांचवें चरण में मतदान होने जा रहा है. उनके पिता और पूर्व प्रधान मंत्री राजीव गांधी भी 1981 से 1991 में अपनी मृत्यु तक निचले सदन में अमेठी के निर्वाचित सदस्य थे.

सात चरण के आम चुनाव के पांचवें चरण में 20 मई को होने वाले मतदान वाली सीटों के लिए नामांकन दाखिल करने की शुक्रवार आखिरी तारीख है. पार्टी ने 1951 के बाद से तीन लोकसभा चुनावों को छोड़कर सभी में कांग्रेस के गढ़ पर जीत हासिल की है. सोनिया गांधी, पूर्व इंदिरा गांधी तीन बार रायबरेली से जीत चुकी हैं.

इस निर्वाचन क्षेत्र ने इंदिरा के पति और कांग्रेस नेता, फ़िरोज़ गांधी को भी 1952 और 1957 में दो बार चुना. नेहरू-गांधी परिवार के किसी सदस्य ने इस सीट से सिर्फ दो बार, 1962 और 1999 में चुनाव नहीं लड़ा.

दोनों निर्वाचन क्षेत्र गांधी-नेहरू परिवार के पारंपरिक गढ़ हैं, जिनके सदस्य दशकों से इन सीटों पर काबिज हैं. कांग्रेस, जो समाजवादी पार्टी (एसपी) के साथ सीट-बंटवारे के समझौते के तहत उत्तर प्रदेश में 17 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ रही है ने अमेठी और रायबरेली को छोड़कर सभी सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है.

कभी कांग्रेस का ‘पॉकेट गढ़’ मानी जाने वाली अमेठी में 2019 के चुनाव में स्मृति ईरानी के हाथों राहुल की हार को पार्टी की राष्ट्रीय प्रतिष्ठा के लिए एक महत्वपूर्ण आघात के रूप में देखा गया था.

 

ये भी पढ़ें- कौन हैं अमेठी से कांग्रेस उम्मीदवार केएल शर्मा, BJP की स्मृति ईरानी के खिलाफ लड़ेंगे चुनाव

 

 

Shree Om Singh
Author: Shree Om Singh

Leave a Comment

RELATED LATEST NEWS