Download Our App

Follow us

Home » तकनीकी » सौर पैनल्स की दिशा में हुए परिवर्तन के बाद, SLIM स्पेसक्राफ्ट को अब ऊर्जा मिल रही है – JAXA

सौर पैनल्स की दिशा में हुए परिवर्तन के बाद, SLIM स्पेसक्राफ्ट को अब ऊर्जा मिल रही है – JAXA

SLIM (स्मार्ट लैंडर फॉर इन्वेस्टिगेटिंग मून मिशन) ने 19 जनवरी 2024 को चांद पर सॉफ्ट लैंडिंग की

 

यह खबर बहुत ही रोचक और महत्वपूर्ण है, जिसमें जापान की अंतरिक्ष एजेंसी JAXA द्वारा SLIM स्पेसक्राफ्ट की सफलता की खबर है। चांद पर सफल सॉफ्ट लैंडिंग और इसके बाद सौर पैनल्स की दिशा में परिवर्तन से उसे ऊर्जा प्राप्त होने का समाचार बहुत प्रेरक है।

SLIM (स्मार्ट लैंडर फॉर इन्वेस्टिगेटिंग मून मिशन) ने 19 जनवरी 2024 को चांद पर सॉफ्ट लैंडिंग की है और यह दुनिया का सबसे सटीक सॉफ्ट लैंडिंग माना जा रहा है, क्योंकि वह अपने लक्ष्य से सिर्फ 55 मीटर दूर सॉफ्ट लैंडिंग करने में सफल रहा है।

सौर पैनल्स की दिशा में हुए परिवर्तन के बाद, SLIM को अब ऊर्जा मिल रही है और यह अंतरिक्ष यान लगातार एक्टिव मोड में संचार कर रहा है। इससे यह स्पेसक्राफ्ट अधिक डेटा और जानकारी भेजने की क्षमता में बढ़ सकता है, जिससे हम चंद्रमा के बारे में और भी नए जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

जापान को अब पांचवां देश बनने का गर्व है, जिसने चंद्रमा पर अंतरिक्ष यान उतारा है। इससे जापान अंतरिक्ष अनुसंधान में विश्वसनीयता को और भी बढ़ाता है और इससे आने वाले अनुसंधानों के लिए नई दिशा मिल सकती है।

स्लिम चांद की सतह पर मौजूद ओलिवीन पत्थरों की जांच करेगा। ओलिवीन एक मिनरल है जो विभिन्न ग्रहों और उपग्रहों की उत्पत्ति और विकास की समझ में मदद कर सकता है। इसके माध्यम से, वैज्ञानिक चंद्रमा की गणना और अध्ययन के लिए अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं, और चंद्रमा की उत्पत्ति की समझ में मदद कर सकते हैं।

 

Aarambh News
Author: Aarambh News

Leave a Comment

RELATED LATEST NEWS