Download Our App

Follow us

Home » अपराध » केजरीवाल को ₹134 करोड़ दिए- खालिस्तानी आतंकी पन्नू का बयान

केजरीवाल को ₹134 करोड़ दिए- खालिस्तानी आतंकी पन्नू का बयान

आतंकवादी संगठन सिख फॉर जस्टिस के चीफ गुरपतवंत सिंह पन्नू ने कहा है कि खालिस्तान समर्थकों ने दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल को 2014 में 134 करोड़ रुपए देकर आर्थिक मदद की थी।

पन्नू के मुताबिक, न्यूयॉर्क के गुरुद्वारा रिचमंड हिल्स में 2014 में उनके साथ केजरीवाल ने एक बैठक की थी। इस मीटिंग में आप नेता ने पैसे के बदले 1993 के दिल्ली बम ब्लास्ट में दोषी देविंदर पाल सिंह भुल्लर को जेल से छुड़वाने का वादा किया था।

पन्नू ने एक वीडियो जारी कर केजरीवाल पर आरोप लगाया है कि बाद में वे अपने वादों से भी मुकर गए। आम आदमी पार्टी की तरफ से इस पर कोई ऑफिशियल स्टेटमेंट जारी नहीं किया गया है।

केजरीवाल पर हमला करवाने की धमकी दी

पन्नू ने यह वीडियो 25 मार्च को जारी किया था। उसने इसमें केजरीवाल पर विश्वास तोड़ने का आरोप लगाया है। उसने कहा कि आप सरकार ने कई खालिस्तानियों को गैंगस्टर बताकर उनकी हत्या करवा दी।

वीडियो में चेतावनी देते हुए पन्नू ने कहा- अगर एक बार केजरीवाल को जेल भेज दिया गया तो जेल में खालिस्तान समर्थक कैदी उनसे पूछताछ करेंगे। उसने केजरीवाल पर जेल में हमला करवाने की धमकी भी दी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस धमकी के बाद सुरक्षा एजेंसियां केजरीवाल के तिहाड़ जेल जाने पर उनकी सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं।

केजरीवाल ने भुल्लर की माफी के लिए राष्ट्रपति को लिखा था खत

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अरविंद केजरिवाल ने 2014 में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को दिल्ली बम ब्लास्ट के दोषी देविंदर सिंह भुल्लर की माफी की मांग करते हुए एक लेटर लिखा था। जनवरी 2024 में सेंटेंस रिव्यू बोर्ड के अध्यक्ष कैलाश गहलोत ने भुल्लर की याचिका को खारिज कर दिया था।

उनका कहना था कि यह समय से पहले रिहाई दिया जाने का मामला नहीं है। सात सदस्यीय सेंटेंस रिव्यू बोर्ड कमेटी का विचार था कि अगर ऐसे दोषी को रिहा किया जाता है, तो यह देश की अखंडता और शांति के लिए ठीक नहीं होगा।

1993 में दिल्ली में हुए बम ब्लास्ट में भुल्लर को सजा हुई थी

26 मई 1965 को बठिंडा के गांव दियाल बहका में देविंदर पाल सिंह भुल्लर का जन्म हुआ। उसने इंजीनियरिंग की पढ़ाई की थी। उसके बाद लुधियाना के एक कॉलेज में प्रोफेसर की नौकरी की। 1984 में हुए ऑपरेशन ब्लू स्टार और दिल्ली सिख दंगों के बाद भुल्लर ने खालिस्तान लिब्रेशन फोर्स जॉइन कर ली।

भुल्लर 25 साल से जेल में बंद है। इस वर्ष फरवरी में भुल्लर ने पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट से समय से पहले रिहाई की मांग वाली याचिका वापस ले ली। भटिंडा के दयालपुरा भाईके के रहने वाले भुल्लर पर सितंबर 1993 में हुए दिल्ली बम ब्लास्ट के मामले में केस दर्ज किया गया था। 2001 में उसे अदालत में मौत की सजा सुनाई गई थी, जिसे 2014 में सुप्रीम कोर्ट ने उम्रकैद में बदल दिया था।

 

 

Shree Om Singh
Author: Shree Om Singh

Leave a Comment

RELATED LATEST NEWS