Download Our App

Follow us

Home » Uncategorized » उत्तराखंड में समान नागरिक संहिता बिल (UCC) ध्वनिमत से पास हो गया

उत्तराखंड में समान नागरिक संहिता बिल (UCC) ध्वनिमत से पास हो गया

Uttrakhand is first to impose UCC bill

 

बुधवार, 7 फरवरी को विधानसभा सत्र के दौरान चर्चा के बाद उत्तराखंड में समान नागरिक संहिता बिल (UCC) ध्वनिमत से पास हो गया। इसकी के साथ उत्तराखंड समान कानून लागू करने वाला देश का पहला राज्य बन गया है।

धामी ने विधायकों को धन्यवाद देते हुए कहा, “देश में कई बड़े राज्य होने के बावजूद हमारे राज्य को अवसर मिला। यह एक ऐतिहासिक अवसर है। यह कोई सामान्य कानून नहीं है, बल्कि ऐसा कानून है जो सभी के लिए एक समान कानूनी ढांचा प्रदान करेगा। मुझे उम्मीद है कि अन्य राज्य भी यूसीसी बिल पेश करेंगे। इस अवसर पर मैं राज्य की जनता को भी धन्यवाद देना चाहता हूं। प्रदेश का हर व्यक्ति आज गौरव महसूस कर रहा होगा।”

धामी ने कहा कि 2022 के राज्य विधानसभा चुनावों से पहले उन्होंने वादा किया था कि अगर भाजपा सत्ता में आई तो हम राज्य में यूसीसी लागू करेंगे। हम सत्ता में आए तो सबसे पहले हमने यूसीसी के लिए एक कमेटी बनाई। यह देवभूमि है, गंगा-यमुना की पवित्र भूमि है, यह देश भर में सेवा कर रहे सैनिकों की भूमि है। इसलिए, उत्तराखंड में रहने वाले सभी लोगों के लिए, चाहे वे किसी भी धर्म और जाति के हों, हमने यूसीसी लाने का फैसला किया और लोगों ने हमें आशीर्वाद दिया।

“यह विधेयक सभी के लिए एक रास्ता दिखाएगा, जैसे राज्य से बहने वाली गंगा पूरे भारत के लोगों को आशीर्वाद देती है। उसी प्रकार यूसीसी की गंगा से सभी लोगों को लाभ होगा। यह विधेयक हमारे सदियों पुराने ‘अनेकता में एकता’ के नारे को मजबूत करेगा। उन्होंने कहा, “मैं आज यूसीसी समिति के सभी सदस्यों को धन्यवाद देना चाहता हूं।”

उन्होंने कहा,”यह तो सिर्फ शुरुआत है। हम विभिन्न मोर्चों पर काम करेंगे। यह विधेयक पिछली सरकारों द्वारा क्यों नहीं लाया गया? तुष्टिकरण की राजनीति के कारण इतने लंबे समय जहाँ रिक्तता थी अब हमने उस  जगह पर काम शुरू कर दिया है। अब अतीत की गलतियों को सुधारा जा रहा है।”

यह भी पढ़े :

समय की मांग है समान नागरिक संहिता कानून-मुख्‍यमंत्री पुष्‍कर सिंह धामी

 

Aarambh News
Author: Aarambh News

Leave a Comment

RELATED LATEST NEWS