Download Our App

Follow us

Home » राजनीति » बिना घूंघट के मोदी के सामने आएंगी संदेशखाली की महिलाएं

बिना घूंघट के मोदी के सामने आएंगी संदेशखाली की महिलाएं

‘संदेशखाली की महिलाएं इंसाफ की गुहार लगाती रहीं, लेकिन TMC सरकार उनकी एक नहीं सुनी। TMC सरकार नहीं चाहती थी कि संदेशखाली का गुनहगार कभी गिरफ्तार हो, लेकिन बंगाल की नारी शक्ति दुर्गा बनकर खड़ी हो गईं। भाजपा का सभी कार्यकर्ता उनके साथ खड़े हो गए, तब मजबूरन राज्य सरकार को झुकना पड़ा।’ ये बात पीएम मोदी ने 2 मार्च को पश्चिम बंगाल के कृष्णनगर में एक रैली के दौरान कही थी। 2 दिवसीय बंगाल दौरे के दौरान उन्होंने बार-बार संदेशखाली का जिक्र किया। पीएम 6 मार्च को एक बार फिर बंगाल में होंगे।

इस बार उनकी रैली संदेशखाली से 85 किमी दूर नॉर्थ 24 परगना जिले के बारासात में होने वोली है। इस रैली में संदेशखाली की विक्टिम महिलाएं भी शामिल होंगी। अब तक घूंघट में दिखने वाली महिलाएं पहली बार बिना घूंघट के दिखेंगी। संदेशखाली मामले को सामने आने के बाद 20 फरवरी को BJP नेता शुभेंदु अधिकारी विक्टिम महिलाओं से मिलने गए थे। तब उन्होंने संकेत दिए थे कि प्रधानमंत्री महिलाओं से मिलने संदेशखाली आ सकते हैं। लेकिन अब साफ हो गया है कि प्रधानमंत्री संदेशखाली नहीं जाएंगे।

नॉर्थ 24 परगना के भाजपा डिस्ट्रिक्ट प्रेसिडेंट तापस घोष के मुताबिक, मोदी का संदेशखाली जाने का प्रोग्राम नहीं है। यहां की विक्टिम महिलाओं को बारासात में होने वाली रैली में ले जाने की व्यवस्था बनाई जा रही है। संदेशखाली से 500 से ज्यादा महिलाएं रैली में जाएंगी। सिर्फ संदेशखाली से ही नहीं, बल्कि पूरे जिले से महिलाओं को लाने की जिम्मेदारी हमें सौंपी गई है।’

लिस्ट में शामिल महिलाएं बारासात में पीएम मोदी से मिलेंगी। उनका स्टेज प्रधानमंत्री के स्टेज के पीछे या उनके करीब वाली जगह पर बनाने की प्लानिंग है। हो सकता है कि कुछ महिलाएं प्रधानमंत्री के साथ मंच पर भी बैठें। लेकिन, ये अभी तय होना बाकी है।

ममता ने कहा था घूंघट वाली औरतें बंगाल की नहीं

संदेशखाली का मामला सामने आने के बाद सीएम ममता बनर्जी ने कहा था, ‘घूंघट में प्रदर्शन करने वाली औरतें संदेशखाली की नहीं हैं। वो सब बाहरी हैं। बीजेपी उन्हें लाई है। ये सब सिर्फ बीजेपी की साजिश है।’

पीएम मोदी से मिलने वाली महिलाओं की लिस्ट तैयार कर रहीं मेंबर नें कहा, ‘इस बार महिलाएं बिना घूंघट के जाएंगी। प्रधानमंत्री जी एक बार इन महिलाओं से मिल लेंगे तो उनका सब डर खत्म हो जाएगा। प्रधानमंत्री से मिलने वालों में रेप, गैंगरेप की विक्टिम के साथ वे महिलाएं भी होंगी, जिनकी जमीन पर कब्जा किया गया है।’

Shree Om Singh
Author: Shree Om Singh

Leave a Comment

RELATED LATEST NEWS